आह जिस वक़्त सर उठाती है

आह जिस वक़्त सर उठाती है
अर्श पर बर्छियाँ चलाती है

नाज़-बरदार-ए-लब है जाँ जब से
तेरे ख़त की ख़बर को पाती है

ऐ शब-ए-हिज्र रास्त कह तुझ को
बात कुछ सुब्ह की भी आती है

चश्म-ए-बद्दूर-चश्म-ए-तर ऐ ‘मीर’
आँखें तूफ़ान को दिखाती है

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *