आम हुक्म-ए-शराब करता हूँ

आम हुक्म-ए-शराब करता हूँ
मोहतसिब को कबाब करता हूँ

टुक तो रह ऐ बिना-ए-हस्ती तू
तुझ को कैसा ख़राब करता हूँ

बहस करता हूँ हो के अबजद-ख़्वाँ
किस क़दर बे-हिसाब करता हूँ

कोई बुझती है ये भड़क में अबस
तिश्नगी पर इताब करता हूँ

सर तलक आब-ए-तेग़ में हूँ ग़र्क़
अब तईं आब आब करता हूँ

जी में फिरता है ‘मीर’ वो मेरे
जागता हूँ कि ख़्वाब करता हूँ

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *