hai ghazal mir ye shifai ki (Hindi)

है ग़ज़ल ‘मीर’ ये ‘शिफ़ाई’ की
हम ने भी तब्अ-आज़माई की

hai ġhazal ‘mīr’ ye ‘shifā.ī’ kī
ham ne bhī tab.a-āzmā.ī kī

उस के ईफ़ा-ए-अहद तक न जिए
उम्र ने हम से बेवफ़ाई की

us ke īfā-e-ahd tak na jiye
umr ne ham se bevafā.ī kī

वस्ल के दिन की आरज़ू ही रही
शब न आख़िर हुई जुदाई की

vasl ke din kī aarzū hī rahī
shab na āḳhir huī judā.ī kī

इसी तक़रीब उस गली में रहे
मिन्नतें हैं शिकस्ता-पाई की

isī taqrīb us galī meñ rahe
minnateñ haiñ shikasta-pā.ī kī

दिल में उस शोख़ के न की तासीर
आह ने आह ना-रसाई की

dil meñ us shoḳh ke na kī tāsīr
aah ne aah nā-rasā.ī kī

कासा-ए-चश्म ले के जूँ नर्गिस
हम ने दीदार की गदाई की

kāsa-e-chashm le ke juuñ nargis
ham ne dīdār kī gadā.ī kī

ज़ोर ओ ज़र कुछ न था तो बार-ए-‘मीर’
किस भरोसे पर आश्नाई की

zor o zar kuchh na thā to bār-e-‘mīr’
kis bharose par āshnā.ī kī

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *