kya kahun tum se main ki kya hai ishq

क्या कहूँ तुम से मैं के क्या है इश्क़
जान का रोग है, बला है इश्क़

kyā kahūñ tum se maiñ ki kyā hai ishq
jaan kā rog hai balā hai ishq

इश्क़ ही इश्क़ है जहाँ देखो
सारे आलम में भर रहा है इश्क़

ishq hī ishq hai jahāñ dekho
saare aalam meñ bhar rahā hai ishq

इश्क़ है तर्ज़-ओ-तौर इश्क़ के तईं
कहीं बंदा कहीं ख़ुदा है इश्क़

ishq hai tarz o taur ishq ke ta.iiñ
kahīñ banda kahīñ ḳhudā hai ishq

इश्क़ माशूक़ इश्क़ आशिक़ है
यानि अपना ही मुब्तला है इश्क़

ishq ma.ashūq ishq āshiq hai
yaanī apnā hī mubtalā hai ishq

गर परस्तिश खुदा की साबित की
किसु सूरत में हो भला है इश्क़

gar parastish ḳhudā kī sābit kī
kisū sūrat meñ ho bhalā hai ishq

दिलकश ऐसा कहाँ है दुश्मन-ए-जान
मुद्दे है पे मुद्दा है इश्क़

dilkash aisā kahāñ hai dushman-e-jāñ
mudda.ī hai pe mudda.ā hai ishq

है हमारे भी तौर का आशिक़
जिस किसी को कहीं हुआ है इश्क़

hai hamāre bhī taur kā āshiq
jis kisī ko kahīñ huā hai ishq

कोई ख़्वाहाँ नहीं मोहब्बत का
तू कहे जिन्स-ए-नारवा है इश्क़

koī ḳhvāhāñ nahīñ mohabbat kā
tū kahe jins-e-nā-ravā hai ishq

‘मीर’ जी ज़र्द होते जाते हैं
क्या कहीं तुम ने भी किया है इश्क़?

‘mīr’-jī zard hote jaate ho
kyā kahīñ tum ne bhī kiyā hai ishq

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *